Shayari Blogs

बड़ा मज़ा आता है उसे बार-बार मुझे सताने में,
क्यो भूल जाती है कि नहीं मिलेगा,
कोई मुझसा चाहने वाला इस जमाने में,
नहीं आए यकीं तो फिर आज़माकर देख लेना
कुछ बात अलग है इस दीवाने में,
तारीफ नहीं करता खुद की... मगर ये सच है...
कोई कसर नहीं छोडूंगा तेरा साथ निभाने में।

Girish 21 Oct 2016 ·

आपसे रोज़ मिलने को दिल चाहता है​​,​
​कुछ सुनने सुनाने को दिल चाहता है​​,​
​था आपके मनाने का अंदाज़ ऐसा​​,​
​कि फिर रूठ जाने को दिल चाहता है​।

Girish 21 Oct 2016 ·

खोया इतना कुछ कि फिर पाना न आया,
प्यार कर तो लिया पर जताना न आया,
आ गए तुम इस दिल में पहली ही नज़र में,
बस हमें आपके दिल में समाना ना आया।

Girish 21 Oct 2016 ·

अब भला छोड़ के घर क्या करते,
शाम के वक्त हम सफ़र क्या करते,
इश्क ने सारे सलीके बख्शे हमें,
हुस्न से कस्बेहुनर क्या करते।

Girish 21 Oct 2016 ·

वो प्यार जो हकीकत में प्यार होता है,
जिन्दगी में सिर्फ एक बार होता है,
निगाहों के मिलते मिलते दिल मिल जाये,
ऐसा इतेफाक सिर्फ एक बार होता है।

Girish 21 Oct 2016 ·

मैं इस उम्मीद पे डूबा के तू बचा लेगा,
  अब इसके बाद मेरा इम्तेहान क्या लेगा।
ये एक मेला है वादा किसी से क्या लेगा,
  ढलेगा दिन तो हर एक अपना रास्ता लेगा।
मैं बुझ गया तो हमेशा को बुझ ही जाऊँगा,
  कोई चराग़ नहीं हूँ जो फिर जला लेगा..!

Digvijay 20 Oct 2016 ·

पानी से तस्वीर कहा बनती है,
ख्वाबों से तकदीर कहा बनती है,
किसी भी रिश्ते को सच्चे दिल से निभाओ,
ये जिंदगी फिर वापस कहा मिलती है...

Digvijay 20 Oct 2016 ·

दिन की रोशनी ख्वाबों को बनाने मे गुजर गई,
रात की नींद बच्चे को सुलाने मे गुजर गई।
जिस घर मे मेरे नाम की तखती भी नहीं,
सारी उमर उस घर को सजाने मे गुजर गई...

Digvijay 20 Oct 2016 ·

बेझिझक मुस्कुराये जो भी गम है,
जिंदगी में टेंशन किसको कम है,
अच्छा या बुरा तो केवल भ्रम है,
जिंदगी का नाम ही कभी ख़ुशी कभी गम है।

Digvijay 20 Oct 2016 ·

लड़की –
बादल गरजे तो
तेरी याद आती है
सावन आने से
तेरी याद आती है
बारिश की बुंदों में
तेरी याद आती है

लड़का-
पता है पता है तेरी छतरी मेरे पास पड़ी है लौटा दुंगा, मर मत…

Digvijay 20 Oct 2016 ·
Page : 1 2 3 4 5 6 ... 379 » »