मैं इस उम

मैं इस उम

मैं इस उम्मीद पे डूबा के तू बचा लेगा,
  अब इसके बाद मेरा इम्तेहान क्या लेगा।
ये एक मेला है वादा किसी से क्या लेगा,
  ढलेगा दिन तो हर एक अपना रास्ता लेगा।
मैं बुझ गया तो हमेशा को बुझ ही जाऊँगा,
  कोई चराग़ नहीं हूँ जो फिर जला लेगा..!

More Shayari Related to मैं इस उम from Shayari

जब  टूटने  लगे  होसले  तो  बस  ये  याद  रखना ,बिना  मेहनत  के  हासिल  तख्तो  ताज  नहीं  होते ,ढूंड  लेना  अंधेरों  में  मंजिल  अपनी ,जुगनू  कभी  रौशनी  के  मोहताज़  नहीं  होते .

Kisi ke dil mein basna bura to nahi

Kisi ko dil mein basana khata to nahi Hain

ye zamane ki nazar me bura to kya hua

Zamane wale bhi insan hai khuda to nahi

कुछ रिश्ते अंजाने में ही हो जाते है, पहले दिल फिर जिन्दगी से जुड़ जाते है, कहते है उस दौर को प्यार… जिसमें लोग जिन्दगी से भी प्यारे हो जाते है..
Shayari karne ke liye kya chahiye Na koi mushaira na hi koi mehfil chahiye Sher ko sun kar jo dard mehsoos kar sake Sirf ek aisa dil chahiye

Humare ishq mein jo aaj mahfuj hain itna,
Khuda jane wo ab bhi kyu khamosh hai itna
Agar dil de diya hai to behichak ejhaar kare
Hum dekh le ki es dariya me sailaab h kitna

This SMS is Posted on 20 Oct 2016 in Shayari Category by Digvijay

Comments for

Advertisements