आज़माकर द

आज़माकर द

बड़ा मज़ा आता है उसे बार-बार मुझे सताने में,
क्यो भूल जाती है कि नहीं मिलेगा,
कोई मुझसा चाहने वाला इस जमाने में,
नहीं आए यकीं तो फिर आज़माकर देख लेना
कुछ बात अलग है इस दीवाने में,
तारीफ नहीं करता खुद की... मगर ये सच है...
कोई कसर नहीं छोडूंगा तेरा साथ निभाने में।

More Shayari Related to आज़माकर द from Ishq Shayari

Kiya hai purnima ki chandani ne,
Jaladhi ke jwaar ka swagat hriday se.
Hawa ke saath ghul mil gayi hai ab,
Nikal kar khushboo apne ghoslo se.

Kisi  Ko  Zaroort  Se

     Zyada Yad

     Mat   karna 

   Kisi   Par  Apna 

   Ansoon   Barbaad 

      Mat    Karna

    Jiese  Maloom 

    Na   Ho  Pyar 

    Ka   Matlab 

    Us  Par  Apna 

   Waqt   Barbaad  

    Mat   Karna .... !!!

Aap Ki Dhadkan Se Hai Rishta Humara
Aap Ki Saanso Se Hai Nata Humara
Bhool Kar Bhi Kabhi Bhool Na Jana
Aap Ki Yaado Ke Sahare Hai Jina Humara…

Ek saccha chahne wala insaan aapse,
Hamesha har tarah ki baate share karega.
Magar ek dhoka dele wala insaan,
Aapse sirf achi lagne wali baate karega.

वो प्यार जो हकीकत में प्यार होता है,
जिन्दगी में सिर्फ एक बार होता है,
निगाहों के मिलते मिलते दिल मिल जाये,
ऐसा इतेफाक सिर्फ एक बार होता है।

This SMS is Posted on 21 Oct 2016 in Ishq Shayari Category by Girish

Comments for

Advertisements